शिमला में डिनर डिप्लोमेसी, कांग्रेस के बाद अब भाजपा पार्षद भी पहुंचे शिमला

नगर निगम में कौन मेयर बनेगा कौन डिप्टी मेयर इसका फैंसला कल हो जाएगा। कल 11 बजे सभी पार्षदों के शपथ लेने का कार्यक्रम है। लेकिन इस शपथ समारोह में कितने पार्षद मौजूद रहेंगे ये तो कल ही पता चल पाएगा।

फिलहाल कांग्रेस के 3 दिनों से शिमला के शोघी में विश्राम कर रहे पार्षद कल एक साथ सोलन आएंगे और शपथ लेकर मेयर व डिप्टी मेयर बनाने की प्रक्रिया का हिस्सा बनेंगे।

लेकिन इस समारोह में निर्दलीय पार्षद मनीष सहित भाजपा पार्षद शपथ लेंगे या नहीं इस पर अभी संशय बना हुआ है। अगर उन्होंने शपथ नही ली तो सोलन को कल मेयर व डिप्टी मेयर नहीं मिल पाएंगे। क्योकि 17 सदस्यीय नगर निगम में कोरम पूरा करने के लिए 12 सदस्यों का शपथ लेकर समारोह में शामिल होना जरूरी है।

इसी को लेकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने डिनर के बहाने सभी पार्षदों को शिमला बुला लिया है व वहीं पर भाजपा की सोलन नगर निगम को लेकर रणनीति तैयार हो जाएगी।

भाजपा किसी भी सूरत में हार का बदला लेने को तैयार बैठी हुई है और कांग्रेस के हाथों से जीती बाजी को खींचना चाहती है। धर्मशाला में भी कांग्रेस की तरफ से मुकेश अग्निहोत्री, सुखविंद्र सुक्खू निगम बनाने को लेकर वहां डेरा डाल चुके है जबकि भाजपा की तरफ से भी पठानिया सहित, स्थानीय विधायक नेहरिया भी मौके पर है। कल मुख्यमंत्री का भी वहां का दौरा है हालांकि कोरोना की मीटिंग के लिए वो वहां जा रहे है लेकिन राजीनीतिक गलियारों में उनके दौरे के अलग ही मायने लगाए जा रहे है।

किसी भी सूरत में भाजपा सोलन व धर्मशाला को अपने हाथों से बाहर नहीं जाने देना चाहती है , यही कारण है कि अभी सोलन के पार्षदों के साथ अभी देर रात डिनर होगा व डिनर डिप्लोमेसी के जरिये निगम में कब्जा करने की रूपरेखा तैयार की जाएगी।

अब देखना होगा कि सोलन नगर निगम के दोनों ही पार्टियों के पार्षद शिमला से खाना खाने व सैर सपाटे के बाद किसका खाना खराब करते है व किसे 5 साल के लिए निगम से बाहर की सैर कराते है।

लेकिन इतना जरूर है कांग्रेस के लिए अभी भी अपने पार्षदों को एकजुट रखना चुनौती जरूर बना हुआ है। अगर कल कोरम पूरा हुआ तो इतना जरूर है सोलन को कल से 17 पार्षद सहित मेयर-डिप्टी मेयर जरूर मिल जाएंगे।

गौरतलब है कि सोलन में मेयर का पद अनुसूचित जाति के लिए है। कांग्रेस की तरफ से कोई भी पुरुष एससी वर्ग से जीत कर नहीं आया है ऐसे में पूनम ग्रोवर का मेयर बनना तय है। जबकि डिप्टी मेयर में सरदार सिंह व राजीव कौड़ा का नाम आगे चला हुआ है। ढाई साल बाद मेयर का पद ओपन हो जाएगा अगर सरदार सिंह ढाई साल बाद मेयर बनने के लिए राजी हो गए तो राजीव अभी डिप्टी मेयर बन सकते है। लेकिन जानकारी के अनुसार सरदार सिंह इसके लिए अभी राजी नही है। अभी उनकी नजर डिप्टी मेयर पद पर व ढाई साल बाद मेयर पद पर है।

कल जो भी लेकिन इतना जरूर है आजकल पार्षदों को वीआईपी ट्रीटमैंट जरूर मिल रहा है। ये कब तक मिलेगा ये तो नहीं बोल सकते लेकिन मुख्यमंत्री के साथ खाना खाने की हसरतें पालने वालों के अरमान जरूर पूरे हो रहे हैं। साथ ही महिला पतियों के भी नजारे लगे हुए है क्योंकि उसके बहाने वो भी खाने के चटकारे ले पा रहें है।

सरकार के वो दावे कि इस बार जो भी जीतेगा उनके पति राजनीतिक हस्तक्षेप नहीं कर पाएंगे वो फिलहाल तो बेमानी नजर आ रहे है क्योंकि अभी तो पतियों के सहारे ही सरकार भी निगम बनाने की तैयारी कर रही है।

Vishal Verma

We’ve built a community of people enthused by positive news, eager to participate with each other, and dedicated to the enrichment and inspiration of all. We are creating a shift in the public’s paradigm of what news should be.