लिंग आधारित भेदभाव के खिलाफ अभियान को लेकर बैठक आयोजित

अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी एवं परियोजना निदेशक जिला ग्रामीण विकास प्राधिकरण चंबा अमित मेहरा ने कहा कि सभी विभागीय अधिकारी लिंग आधारित भेदभाव के खिलाफ समुदाय के नेतृत्व में राष्ट्रीय अभियान के तहत जागरूकता गतिविधियों में अपनी सहभागिता सुनिश्चित बनाएं। यह निर्देश आज उन्होंने डीआरडीए सभागार में अभियान को लेकर आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए। बैठक में अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी ने कहा कि यह अभियान चार सप्ताह तक आयोजित किया जाएगा जिसमें लिंग आधारित भेदभाव में बदलाव के लिए मुख्यत: चार घटक जिसमें लिंग आधारित हिंसा की समझ और पहचान,आवाज उठाना, लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ समर्थन मांगना व एकजुटता दिखाना तथा लिंग आधारित हिंसा से संघर्षशील व्यक्ति का समर्थन करना शामिल है। उन्होंने कहा कि लिंग आधारित भेदभाव के खिलाफ सामुदायिक नेतृत्व के अंतर्गत वार्षिक राष्ट्रीय अभियान नई चेतना को लांच किया गया है। उन्होंने बताया कि इस अभियान में सामुदायिक संस्थान, ग्रामीण समुदाय ,पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों सहित आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और स्वयं सहायता समूहों की भूमिका अहम है।

उन्होंने अधिकारियों को अभियान के तहत की जाने वाली जागरूकता गतिविधियों में लैंगिक असमानता को दूर करने में सामुदायिक संस्थानों की सहभागिता सुनिश्चित करने को कहा। अमित मेहरा ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए घरेलू हिंसा की शिकायत और सहायता के लिए जारी हेल्पलाइन नंबर 112 और साइबर नंबर 1930 की जानकारी दी जाए ताकि अगर कोई महिला घरेलू हिंसा से पीड़ित है तो वह इन हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर अपनी आवाज उठा सके। उन्होंने महिलाओं से भी आह्वान किया कि वे लिंग आधारित हिंसा को समझें व पहचानें , हिंसा के खिलाफ आवाज उठाएं तथा हिंसा के खिलाफ समर्थन मांगे और एकजुटता दिखाएं। इस दौरान अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी ने बैठक में उपस्थित अधिकारियों व कर्मचारियों को लिंग आधारित भेदभाव को खत्म करने की शपथ भी दिलवाई। बैठक में उपनिदेशक कृषि विभाग डॉ कुलदीप धीमान,महाप्रबंधक उद्योग चंद्रभूषण, सहायक निदेशक मत्स्य भूपेंद्र कुमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

   

Vishal Verma

20 वर्षों के अनुभव के बाद एक सपना अपना नाम अपना काम । कभी पीटीसी चैनल से शुरू किया काम, मोबाईल से text message के जरिये खबर भेजना उसके बाद प्रिंट मीडिया में काम करना। कभी उतार-चड़ाव के दौर फिर खबरें अभी तक तो कभी सूर्या चैनल के साथ काम करना। अभी भी उसके लिए काम करना लेकिन अपने साथियों के साथ third eye today की शुरुआत जिसमें जो सही लगे वो लिखना कोई दवाब नहीं जो सही वो दर्शकों तक