पुलिस हिरासत में अश्वेत की मौत के बाद अमेरिका में भड़की हिंसा, व्‍हाइट हाउस हुआ बंद

अमेरिका के मिनियापोलिस में पुलिस हिरासत में एक अश्वेत की मौत के बाद से भड़की हिंसा के कारण वाशिंगटन में व्‍हाइट हाउस को बंद कर दिया गया है। रिपोर्ट्स के अनुसार जॉर्ज फ्लॉयर्ड के मौत के विरोध में सैकड़ों की संख्या में लोगों ने व्‍हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शन किया जिसके बाद यहां लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित करते हुए बड़ी संख्या में सीक्रेट सर्विस एजेंट्स और स्थानीय पुलिस की तैनाती की गई है।

वायरल वीडियो क्लिप में देखा गया कि, एक श्वेत पुलिस अधिकारी जॉर्ज फ़्लॉयड नाम के एक निहत्थे अश्वेत व्यक्ति की गर्दन पर घुटना टेककर उसका गला दबाया, कुछ ही देर बाद जॉर्ज फ़्लॉयड की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि, अमेरिका के मिनीपोलिस के उस श्वेत अधिकारी को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया और उसपर थर्ड डिग्री हत्या और मानव वध का आरोप लगाया गया। फ्लॉयड की मौत के बाद से ही पूरे अमेरिका में हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए यानी अश्वेत व्यक्ति की हत्‍या के विरोध में ये प्रदर्शन हो रहा है और वाशिंगटन डीसी, अटलांटा, फिनिक्स, डेनवर और लॉस एंजिलिस समेत कुछ शहरों में इसने हिंसक रूप ले लिया। इनमें से कुछ प्रदर्शनों ने उग्र रूप ले लिया और पुलिस के साथ प्रदर्शनकारियों की झड़प हुई। फिनिक्स, डेनवर, लास वेगास, लॉस एंजिलिस और कई अन्य शहरों में हजारों प्रदर्शनकारियों के हाथों में पोस्टर थे, जिन पर लिखा था कि उसने कहां कि मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं। जॉर्ज के लिए न्याय। उन्होंने नारे लगाए, ‘न्याय नहीं… शांति नहीं’ और कहा, ‘उसका नाम पुकारो। जॉर्ज फ्लॉयड।’

वहीं इस घटना के बाद से तमाम हॉलीवुड स्टार्स जैसे बियॉन्से, कार्डी बी, टेलर स्विफ्ट, जॉन बोयेगा, जॉन चीडो, स्टीव कोरैल, निक जोनस, प्रियंका चोपड़ा, रिहाना, बेला हदीद और जैनेल मौने जैसे सेलिब्रिटीज भी प्रोटेस्ट में शामिल हुए लोगों को मदद के लिए आगे आ चुके हैं। सभी ने अपने सोशल मीडिया के माध्यम से जॉर्ज फ़्लॉयड के लिए न्याय मांगा है। प्रियंका के पति निक जोनस और अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी जॉर्ज फ़्लॉयड मौत पर दुख जताया है और इंसाफ के लिए आवाज उठाई है।

Third Eye Today

We’ve built a community of people enthused by positive news, eager to participate with each other, and dedicated to the enrichment and inspiration of all. We are creating a shift in the public’s paradigm of what news should be.